Tuesday, September 11, 2018

कुंडलीमिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक है ! -

कुंडलीमिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक है ! - 

कब प्रारम्भ हुआ कुंडली मिलान :- 

प्राचीन या वैदिक काल में हिन्दू लोग ज्योतिष और एस्ट्रोनॉमी से पूरी तरह परिचित होने के बावजूद विवाह में किसी भी प्रकार के ज्योतिष , गुण मिलान आदि का प्रयोग नहीं करते थे ! कालांतर में सूर्य का उत्तरायण होना और शुक्ल पक्ष की तिथि होना जैसी बातों से विवाह संस्कार में ज्योतिष का प्रवेश हुआ ! मशहूर इतिहासकार डॉ राजबली पांडे ने अपनी पुस्तक "हिन्दू संस्कार" में इसका व्यापक उल्लेख करते हुए लिखा है कि सूर्य के उत्तरायण और शुक्ल पक्ष के साथ विवाह में अन्य ज्योतिषीय गड़नाओं का प्रयोग होना धीरे धीरे शुरू हुआ ! पर आज की तरह ही वर वधु की कुंडलियां मिलाने की तार्किक प्रक्रिया ना शुरू होकर गुण मिलान शुरू हुआ ! जो कि नाक्षत्रों पर आधारित था,नक्षत्र क्यों कि 23 घंटे 56 मिनट अर्थात पूरे एक दिन का होता है या एक दिन पूरे 24 घंटे एक ही नक्षत्र रहता है ! तो पंचांग से वर और वधू की पैदाइश के विशेष दिन का( ना कि समय का ) नक्षत्र से मिलान किया जाने लगा ! एक नक्षत्र का दूसरे नक्षत्र से कितनी मैत्री है उसको कुछ पॉइंट्स दिए जाने लगे जैसे 18 गुण 26 गुण आदि ! यह बहुत सरल था क्योंकि जन्म समय की अनुपलब्धता के कारण यह पद्धति धीरे धीरे प्रचलन में आ गयी ! आगे चलकर इसमे मंगल दोष सहित अन्य दोष तथा उसका परिहार भी जोड़ दिया और उसे व्यावसायिक रूप दे दिया गया ! पर सोचने वाली बात यह है कि नौ ग्रह और एक लग्न अर्थात 10 में से हैम केवल चंद्रमा और उसके नक्षत्र को देखते हैं जो कि 10 बिंदुओं में से सिर्फ 10% पर ही हम विचार करते हैं ! इसके अलावा कुंडली उसकी दशाएं उसमे वैवाहिक सुख पति पत्नी की आयु (Longevity) , उनकी साम्पन्नता विपन्नता भावनात्मक लगाव आने वाले समय मे त्याग परित्याग , संतान सुख आदि का ध्यान ही नही दिया जाता था ! तो निष्कर्ष में यह निकालता हुन कि पारंपरिक गुण मिलान उनके लिए है जिनके पास उनका जन्म समय ज्ञात ना हो ! जिनके पास उनका जन्म समय ज्ञात हो वे गुण मिलाना छोड़ कुंडली मिलाएं, अगर कुंडली मिल गयी तो विवाह के सुखी होने के 90% संभावनाएं रहेंगी ! और पाठकों की जानकारी के लिए बात दूं कि जन्म समय पर आधारित वास्तविक कुंडली मिलान की यह प्रक्रिया मात्र कुछ वर्षों से शुरू हुई है ! और दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि इसकी पहुंच कुछ जागरूक और सुविधा भोगी वर्ग तक ही सीमित है !यह प्रक्रिया आज की हिन्दू ज्योतिष ने इतनी प्रगति कर ली है कि ज्यादा मेहनत करके घटनाओं के माध्यम से तथा हथेली और अंगूठे देख कर वास्तविक समय तक निकाल लिया जाता है ! क्योंकि यह बहुत हेक्टिक और टाइम टेकिंग है तो जो इस विद्या को जानते हैं वह समयाभाव में इससे दूर रहते हैं ! मैं स्वयं कम ही हॉरोस्कोप रेक्टिफिकेशन का काम लेता हूँ समयाभाव के कारण ! काम से कम 5 से 10 घंटे पूरे चाहिए होते हैं ! 

एक IPS और एक IAS के वैवाहिक जीवन से त्रस्त आत्महत्या तथा कुण्डलीमिलान का संबंध :-

अब आते हैं 09 सितंबर 2018 को आत्महत्या करके दिवंगत हुए IPS सुरेंद्र दास जी के विषय पर जो  नवोदय विद्यालय के छात्र थे जिसका कभी मैं भी छात्र था,फ़ैज़ाबाद जवाहर नवोदय विद्यालय का ! कुछ माह पहले IPS मुकेश पांडे जी भी ट्रेन से कट कर मरे थे ! कारण दोनों मे वही पत्नी से मेल ना खाना ! जानकारी के अनुसार दोनों की कुण्डलियां मिलाई गयी थी ! पर उसी तरह से,नक्षत्र चरणों से अर्थात राशि के नाम से ! जैसे आज 80% मामलों में हो रहा है ! हालाकी एक आधुनिक समाज भी तैयार हो रहा है जो नये शोधों से लैस पद्धतियों को फॉलो कर रहा है और सुखी भी है ! तो जैसा कि मैने फसबुक पर तीन संक्षिप्त शृंखलाओं मे कहा कि इस तरह से शादियों के गुण मिलान का कोई अर्थ नही जैसे सुबह अख़बार में या टी.वी में राशिफल पढ़ने का कोई अर्थ नही ! मिलाना है तो दोनों की कुण्डलियां अलग अलग दो भिन्न भिन्न अस्तित्वों का मिलान करिए ! ना कि रोहिणी नक्षत्र के लड़के का मघा नक्षत्र की लाड़की से ! कुण्डलियां बहुत कुछ बता देंगी ! अगर आप ज्योतिष् को मानते हैं तो दोनों कुण्डलियां आपस मे मिल रही हैं तो शादी करिए नहीं तो दोनों दूसरे रास्ते खोजें  ! इस 36 गुण और मांगलिक के चक्कर में मैने सैकड़ों घर बर्बाद होते देखे हैं ! ऐसा मैं ही नहीं फॉलो करता विश्व में हिंदू भारतीय ज्योतिष् के सबसे बड़े हस्ताक्षर श्री के.एन राव सर भी यही मानते हैं ! IPS साधु किस्म के ईमानदार और भक्त व्यक्ति थे ! जाहिर है शाकाहारी भी थे ! पत्नी जन्माष्टमी को घर में माँस खाती है तो कैसे पटेगी ! यह सामान्य घटना नहीं है ! यही तो गुणमिलान है ! एक मनुष्य की राक्षस से कितनी पटेगी ! यह बाते तो कुंडली देखे बिना भी समझी जा सकती थी ! कुंडली मिलाइए पर आधुनिक और वैज्ञानिक तरीके से ! पहले Longevity अर्थात उम्र देखिए ! ज्योतिषी को यह देखना चाहिए कि दोनों मे से कोई अल्पायु तो नहीं है ! 2. फिर भावनायें या गुण मिलायें अर्थात दोनों की आदतें मिलती है कि नही साथ में दोनों में भावनात्मक लगाव रहेगा या नहीं ! यहाँ IPS के केस में  यही सब तो हुआ ! 3. फिर Prosperity अर्थात संपन्नता देखिए कि दोनों कुंडलियों में किसी एक में रोज़ी रोटी का संकट तो नहीं है ! चौथा और अंतिम संतान योग देखिए ! ....शेष बातें फिर कभी 

सुशील कुमार सिंह (टाइम्स ऑफ इंडिया पैनेल के ज्योतिषी ) Contact - 7985517269 Whatsapp - 9125000013 www.astrosushil.com ज्योतिष् सदन फ़ैज़ाबाद (अयोध्या)

Wednesday, September 5, 2018

ज्योतिष के अनुसार समय पर या समय से पूर्व होंगे लोकसभा 2019 के चुनाव :-

ज्योतिष के अनुसार समय पर या समय से पूर्व होंगे लोकसभा 2019 के चुनाव 

भारतीय हिन्दू ज्योतिष यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव में कौन जीतेगा तो वह यह भी बताने में सक्षम है कि चुनाव कब होंगे ! कुछ वरिष्ठ ज्योतिषियों ने 1989 के तथा दो अन्य लोकसभा चुनावों का समय बता दिये थे ! मैंने एक राष्टीय समाचार पत्र के लिए 2009 के चुनावों का समय बताया था ! चुनाव संबंधित भविष्यवाणी में सबसे बड़ी अड़चन नेताओं का जानबूझ कर गलत जन्म विवरण देना तथा भाजपा कांग्रेस शिवसेना के अतिरिक्त किसी बड़ी पार्टी की वास्तविक कुंडली की अनुपलब्धता भी है ! वैसे मेरे पास समाजवादी पार्टी की कुंडली उनके एक बड़े नेता द्वारा दी गयी हुई है पर समयाभाव में मैंने उसपर काम नहीं किया !  


 क्या है चुनावों की तारीख बताने का ज्योतिषीय सिद्धांत :  

पहली स्थिति में राहु की एक विशेष स्थिति में ही चुनाव होते हैं ! यह शोध अभीतक सम्पन्न हर आम चुनाव पर लागू हुआ है !   दूसरी स्थिति में मंगल चुनाव /पोलिंग के दिन कभी भी द्विस्वभाव राशियों अर्थात मिथुन, कन्या धनु तथा मीन राशि में नहीं था !    तीसरी स्थिति में सभी तो नहीं पर कुछ   आम चुनावों में शनि या बृहस्पति वक्री थे !   चैथी स्थिति में लगभग 50% केसेज़ में शनि द्विस्वभाव राशियों अर्थात मिथुन ,कन्या,धनु तथा मीन राशियों को जैमिनी दृष्टि से देखता है !   पाँचवी स्थिति में ज्यादातर केसेज़ में भारत की स्वतंत्रता तथा गणतंत्र की कुंडलियों के दसवें,चौथे,पहले,आठवें, ग्यारहवें तथा छठे भाव पर किसी पाप ग्रह की जैमिनी दृष्टि अवश्य पड़ रही थी !  दसवाँ घर सत्तारूढ़ दल और प्रधानमंत्री का नेतृत्व करता है ! चौथा भाव विपक्ष तथा राज्यसभा को प्रदर्शित करता है ! ग्यारहवां भाव संसद द्वारा नए कानून बनाने तथा चुनाव आयोग द्वारा चुनावों की अधिसूचना जारी करने का प्रतिनिधित्व करता है ! छठा भाव मतदाता क्षेत्र तथा प्रत्याशियों की लड़ाई या यूं कहिये कि हार या जीत का होता है ! पहला और आठवाँ घर चुनावों की घोषणा के बाद जनता तथा नेताओं के बीच के चुनावी बुखार और हलचल का प्रतिनिधित्व करता है !   अब यदि जैमिनी ज्योतिष के उपरोक्त सिद्धांतो को ध्यान में रखा जाय तो सिर्फ तीसरा सिद्धांत इस बार की मेरे द्वारा निकाली गई तारीखों पर लागू नहीं हो रहा है ! शेष चारों सिद्धांत पूरी तरह से लागू हो रहे हैं !  


 तो क्या समय से पहले होंगे 2019 के चुनाव :   

उपरोक्त बताये गए जैमिनी दृष्टिकोण से आम चुनाव थोड़ा पहले हो सकते हैं अर्थात 23 मार्च के पूर्व ! जबकि सामान्य तौर पर इसे अप्रैल या मध्य मई तक सम्पन्न होने चाहिए ! पहले नियम के अनुसार राहु चर राशि "कर्क" में 23 मार्च तक रहेगा ! यहां राहु के वास्तविक गोचर की बात हो रही है ! जिसे ट्रू राहु ट्रांजिट भी कहते हैं ! अन्यथा दूसरे मत के अनुसार राहु 7 मार्च को ही कर्क राशि छोड़कर मिथुन में प्रवेश कर जाएगा ! पर अधिकतर ज्योतिषी 23 मार्च के गोचर को ही महत्वपूर्ण मानते हैं ! तो पहले सिद्धांत के अनुसार चुनाव 23 मार्च के पहले सम्पन्न हो जाने चाहिए ! और एक संभावना यह भी है कि चुनाव शरू होने के बाद कुछ बड़े विवाद हो और कुछ दिनों के लिए चुनाव तिथियां आगे बढ़ा दी जाय कुछ फेज हो जाने के बाद ! इन विषयों पर कुछ गंभीर शोध की आवश्यकता है ! पर ज्यादा संभावना 23 मार्च के पहले चुनाव सम्पन्न होने की लगती है ! दूसरे सिद्धांत के अनुसार  06 फवरी से 07 मई तक मंगल द्विस्वभाव राशि में नहीं रहेगा और 06 फवरी से 22 मार्च तक स्वतंत्रता की कुंडली के चौथे और दशवें घर को जैमिनी दृष्टि से देखेगा ! तथा 22 मार्च से 07 मई तक मंगल चौथे,दसवें,पहले,ग्यारहवें, छठवें तथा आठवें भाव या स्वामियों को देखेगा !  तीसरी स्थिति लागू नहीं है क्योंकि शनि और बृहस्पति अप्रैल में वक्री होंगे तो ऐसा भी जो सकता है कुछ फेज होकर चुनाव के कुछ फेज बाद में हों ! चौथी स्थिति के अनुसार शनि सभी द्विस्वभाव राशियों को देख रहा है ! पांचवीं स्थिति भी पूर्ण रूप से लागू हो रही है पर सिर्फ दो दिनों के लिए तो ऐसा हो सकता है कि चुनाव आयोग की राजनीतिक पार्टियों से कुछ विवाद हो कुछ फेज थोड़े अंतराल पर हों ! 

ज्योतिषी सुशील कुमार सिंह (टाइम्स ऑफ इंडिया पैनेल के ज्योतिषी)

ज्योतिष् सदन फ़ैज़ाबाद अयोध्या 7985517269, Whatsapp - 9125000013  


Monday, April 23, 2018

योगी आदित्यनाथ की वास्तविक कुंडली

योगी आदित्यनाथ की वास्तविक कुंडली   योगी आदित्यनाथ की जो कुंडली आमतौर पर प्रकाशित होती है वे सभी ग़लत हैं ! आपको वास्तविक कुंडली और जन्म विवरण दिया जा रहा है !   जन्मा तारीख - 29 दिसंबर 1971 समय 20:00 स्थान पौरी गढ़वाल     विनषोत्तरी दशा - बृहस्पति मे राहु 24 अक्तूबर 2019 तक ! बृहस्पति में में राहु में शनि - 03 फ़रवरी 2018 से 22 जून 2018 तक      


 Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more. BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233)

Tuesday, March 20, 2018

Stars of BJP Amit Shah and Yogi Adityanath


Infightings and feud in BJP
As predicted earlier BJP will be in a phase of infightings from March April. The defeats in the Gorakhpur and Phulpur are merely starting of the feud in the party. The cause of this fighting will be dasha chhidra and beginning of debilitated moon dasha placed in the sixth house.Few months after March in 2018 are very crucial for the party. The party may lose few more elections in 2018 but the main issue is not defeat but the issue is an expected infighting in the party. This fighting will be against said corruption and irregularities in the party. But at the same time party will win few elections also. From 14th march till 05th April Bjp is in the effect of Ketu pratyantardasha. This clearly indicates few sudden unexpected happenings in the party.

Amit Shah
As predicted earlier after March even Amit Shah will be in a bad astrological phase. Few stronger leaders in the party will be against Amit Shah. Few politicians might raise the issue of corruption in the party.

Yogi Adityanath
About Yogi Adityanath I had predicted for Astrospeak on 19th may that he will face troubles and hurdles from the party. On 14th BJP lost Gorakhpur loksabha seat but there is a saying in Gorakhpur and his horoscope clearly indicates that his math didn’t take in the elections because the candidate was out of math. Yogi Adityanath is a stubborn politician and he is hath yogi. His horoscope has “ shatruhanta yoga” this means no one can win from him and he will destroy his enemy. In future he is going to be the most shining star in the BJP. But he is going to face great obstacles from the leaders in the party.

Will BJP lose 2019?
This will be too earlier to predict this because horoscope of BJP is not as weak as the opposition is expecting after the bi elections. This cannot also be predicted that only BJP is going to win. All this can be predicted ones this is clear that which parties will make alliance in the next elections.


Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more.

BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233)





Saturday, March 17, 2018

क्या कहते हैं भाजपा अमित शाह और योगी के सितारे !


भाजपा में होगा अंतरकलह और विवाद
जैसा कि पहले ही भविष्यवाणी की जेया चुकी है कि मार्च अप्रैल से भाजपा में आपसी झगड़े और कलह बढ़ेगी ! कारण होगा दशा छिद्र की दशा और नीच के तथा छठे भाव स्थित चंद्र की दशा की शुरुआत ! मार्च के बाद के कुछ महीने भाजपा के लिए अच्छे नहीं हैं ! पार्टी कुछ महत्वपूर्ण चुनाव हारेगी और इससे ज़्यादा यह होगा की पार्टी में जबरदस्त अंतरकलह सामने आएगी ! वर्चस्व की लड़ाई सॉफ सॉफ दिखती है ! इसमें कुछ बवाल पार्टी में तथाकथित अनियमितता और भ्रष्टाचार को लेकर होगी ! 14 मार्च से 05 अप्रैल का समय पार्टी के लिए ठीक नहीं है क्योंकि पार्टी इस समय केतु के प्रभाव में है जिसका मतलब कुछ आकस्मिक और अप्रत्याशित घटनायें घटेंगी ! जिससे पार्टी को बचना चाहिए !
अमित शाह
जैसा कि पहले ही बताया जेया चुका है कि मार्च अप्रैल से अमित शाह की दशायें ठीक नहीं है 2018 में ! पार्टी के कुछ नेता उनके खिलाफ सामने सकते हैं ! कुछ नेता पार्टी के अंदर व्याप्त भ्रष्टाचार पर मुखऱ होंगे !
योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथ के विषय में मैने 19 मे 2017 को भविष्यवाणी दे दी थी कि पार्टी में उनके खिलाफ कुछ लोग साज़िशें करेंगे ! गोरखपुर उपचुनाव में हार योगी का उन नेताओं को एक जवाब हो सकता है ! उनकी कुंडली में कुछ जबरदस्त योग है जिनमे "शत्रुहंता" योग भी है जिसमें सामने वाला दुश्मन का जातक से ना जीत पाना है ! योगी 25 साल की उम्र से कोई चुनाव नहीं हारे ! ऐसा कहा जा रहा है कि मठ ने इस चुनाव मे हिस्सा नहीं लिया ! आगे चलकर योगी भाजपा के एक चमकते सितारे साबित होंगे पर इस बीच उन्हें बहुत विरोध और झंझवतें झेलनी पड़ेंगी !
क्या भाजपा 2019 हार जाएगी ?
यह कहना बहुत ही जल्दबाज़ी होगी क्योंकि भाजपा अभी उतनी कमज़ोर नहीं है जितना उसे उपचुनावों के बाद मीडीया पेश कर रही है ! यह भी सीधे सीधे नहीं कहा जेया सकता की भाजपा जीत ही रही है ! इस संबंध में भविष्यवाणी तभी की जेया सकती है जब विपक्ष के संभावित गठबंधन के पार्टियों और नेताओं की कुण्डलियां उपलब्ध हों !




Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more.
BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233)

Thursday, March 15, 2018

पुनः सच हुई सुशील कुमार सिंह की भविष्यवाणी


टाइम्स ऑफ इंडिया पैनेल के ज्योतिषी सुशील कुमार सिंह ने कई महीने पहले और कई बार यह भविष्यवाणी दोहराई थी कि मार्च अप्रैल 2018 से कुछ महीनों के लिए बीजेपी का बुरा समय आयेगा ! कुछ राज्य हारेगी भी और आपस में पार्टी में झगड़े होंगे !
आगे क्या होगा - सुशील कुमार सिंह की सारी भविष्यवाणी अप्रैल से आगे की कुछ महीनों (2018) तक की है ! आगे क्या होगा इसपर अभी पूर्ण विश्लेषण नहीं हुआ है ! एनालिसिस जारी है ! अभी BJP के 2019 मे हारने या जीतने की भविष्यवाणी नहीं कि गयी और इतना कहा गया है कि BJP का समय मार्च से लेकर कुछ महीनों तक खराब है ! कुछ क्षेत्रीय दलों के उपलब्ध कुंडलियों के आधार पर तो क्षेत्रीय दल बहुत मजबूत नहीं दिख रहे है 2019 में ! इन्ही खराब समयों में भी BJP कुछ चुनाव फिर जीतेगी भी




Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more.
BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233)

कुंडलीमिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक है ! -

कुंडलीमिलान का पारंपरिक तरीका कितना सफल और कितना तार्किक है ! -  कब प्रारम्भ हुआ कुंडली मिलान :-  प्राचीन या वैदिक काल में हिन्दू...