Friday, October 26, 2012

नितिन गडकरी का राजयोग समाप्त !


नितिन गडकरी एक मध्यवर्गीय ब्राह्मण परिवार मे २७ मे १९५७ को पैदा हुए !
उनका लग्न वृष है ! लग्न का स्वामी शुक्र स्वयं लग्न मे ही बैठा है !और
यह शुक्र अकेले ही नही है वरन चतुर्थेश सूर्य के साथ है यह एक बड़ा
राजयोग है ! जीवन के आरंभ मे ही उन्हे शुक्र और सूर्य की दशा मिल गयी !
यही दशायें थी जो उनको राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के बहुत करीब लाई ! और
वे व्यवसाय मे बहुत आगे बढ़े !
नितिन गडकरी का सप्तमेश उनके दूसरे घर मे बैठा है जो उनके पाँचवें और
नवें अर्थात भाग्य भाव को देख रहा है ! दूसरे भाव मे बैठने के कारण मंगल
इनसे गाली गलौज करवाता रहता है ! नवंस मे यह मंगल लग्नेश होकर लग्न मे ही
बैठा है ! और भाग्येश बृहस्पति से दृष्ट है ! जब की वर्ग कुंडली दशमांश
मे यह लग्नेश होकर भाग्य भाव मे ही बैठा है ! इसी मंगल की दशा मे वे
महाराष्ट्र के लोकनिर्माण मंत्री बने और उन्होने राज्य को बहुत नवीन
योजनायें दि.उन्के कार्यकाल को सफल माना जाता है !
दिसंबर २००९ मे राहु मे बुध की दशा मे वे भ.ज.पा के राष्ट्रीय अध्यक्ष
बनाए गये ! यदि हम ज्योतिष् की दृष्टि से देखें तो उनके बुरे समय की
शुरुआत इसी समय से हो गयी थी ! ज़रूरी नही की बुरा समय बुरे समय मे ही आए
! उनका बुरा समय बुध की अंतरदशा से शुरू हो गया था. उनका बुध चंद्र केसाथ बारहवें घर मे है इतना ही नही वा राहु केतु की धुरी पर भी है ! और
वक्री शनि से दृष्ट होकर यह बहुत ही पीड़ित हो गया है ! ऐसा व्यक्ति शांत
मस्तिष्क का नही होता ! उसके निर्णय कभी कभी पागलपन के स्तर के भी हो
सकते हैं ! चूँकि बुध व्यवसाय का भी कारक है इस लिए उनके व्यवसाय पर
उंगलियाँ उनके अध्यक्ष बनते ही उतनी शुरू हो गयी थी ! मगर दशा है राहु की
तो उसे केतु का इंतेजार था ! यह केतु बुध के साथ है ! पराशारी दृष्टि से
देखें तो राहु भी शनि के साथ है ! छठे घर मे यह दोनो ग्रह उन्हे ताक़त तो
दे रहे हैं !
सितंबर २०११ से राहु मे केतु की दशा शुरू हो गयी ! राहु मे केतु अक्तूबर
तक चला ! इस केतु की अंतर दशा मे उनपर अरविंद केजरीवाल ने सुबूतों सहित
भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए ! रही सही कसर मीडीया ने पूरी कर दी !
ध्यान रहे की केतु का अंतर समाप्त होने वाला था ! और अंतिम प्रत्यन्तर था
बुध का ! घटना घटेगी यह तो महादशा बताती है कब घटेगी यह अंतरदशा बताती है
और किन परिस्थिति मे घटेगी या घटना का स्वरूप क्या होगा यह प्रतियांतर
बताता है तो प्रतियांतर  था बुध का ! और बुध है व्यवसाय का कारक इस लिए
उन पर व्यवसाय से संबंधित मामलों मे भ्रष्टाचार के आरोप लगे !
अब अक्तूबेर से वह राहु मे शुक्र की अंतरदशा मे आ गये हैं ! हिंदू
ज्योतिष् मे शुक्र मे राहु या राहु मे शुक्र सबसे खराब दशाओं मे माना
जाता है ! आदमी बुरी परिस्थिति मे घिरता चला जाता है ! नितिन गडकरी को
महिला से संबंधित विवाद से बचना होगा ! क्यों की इस समय महिला से संबंधितकोई आरोप भी लग सकता है यह अंजलि दमणिया नही बल्कि कोई और भी महिला हो
सकती है ! छठे घर का स्वामी होकर शुक्र लग्न मे है आरोपो से च्छुतकारा
पाना बड़ा मुश्किल है ! न्यायालयों से भी अच्छी खबर नही है गडकरी के लिए
!
नितिन गडकरी को अपना पद त्यागना पड़ेगा और वे मई २०१५ के बाद लगभग भुला
दिए जाएँगे ! २०१५ तक उनके सितारे बहुत ही खराब रहेंगे और वे कोर्ट कचहरी
का सामना करेंगे ! भारत संक्रमण काल मे चल रहा है और गडकरी उसी संक्रमण
का शिकार हो गये !

BIRTH DETAILS -


DATE - 27TH MAY 1957
TIME - 05:34
POB - NAGPUR MAHARASHTRA

New Year predictions for 2018: Astrology forecasts

Article is already published in the Astrology portal of Times of India and being reproduced here again. The year 2018 is going to be ...