Sunday, November 4, 2012

SUBRAMANIAN SWAMI - SATRS ARE NOT SO POWERFUL NOW

बुध की महादशा अच्छी नही है डॉक्टर स्वामी की -

डॉक्टर सुब्रहमण्यम स्वामी भारतीय राजनीति का संभवतः सबसे विवादास्पद नाम है ! पर एक विषय पर कोइ भी विवाद नही हो सकता की भारत की राजनीति मे उनसे ज़्यादा निर्भीक इंसान देखने को नही मिला ! वे काफ़ी पढ़े लिखे तो है पर ग़लत बात बर्दाश्त ना करना उनकी खास आदत है ! फिर चाहे कोइ भी हो डॉक्टर स्वामी उससे भिड़ेंगे ज़रूर ! उनके बारे मे अध्ययन किया जाए तो पता चलता है की उन्होने अपना जीवन अपने तरीके से जिया ! उनके पिता बाहरतीय सांख्यिकी सेवा के बहुत बड़े अधिकारी थे ! स्वामी ने गणित मे स्नातक किया और इसके बाद सांख्यिकी और कामर्स का अध्ययन किया और विदेशों मे पढ़ाने लगे ! यही पर उनकी एक पारसी महिला से शादी हुई ! और उनकी दो बेटियाँ हुई ! बेटियों की शादियाँ भी अलग अलग मजहबों मे हुई ! उपरोक्त सारी घटनायें उनकी कुंडली से मेल खाती है !

यदि किसी इंसान की कुंडली सिंह लग्न की हो और सूर्य लग्न मे ही हो तो ऐसा व्यक्ति किसी से डर ही नही सकता और स्वयं को एक सत्ता समझता है ! लगना का सूर्य उनकी संख्यकी को मजबूत बना रहा है ! इसी वजह से हर तरह के आकड़े उनकी ज़ुबान पे रहते हैं ! और भारतीय अर्थ व्यवस्था को मजबूत करने मे डॉक्टर स्वामी का योगदान हमेशा याद किया जाएगा ! सूर्य और बुध  लग्न मे होने के कारण उनको कामर्स का ग्याता बना रहा है ! १९७४ से १९९९ के बीच मे वे ५ बार सांसद हुए ! और चंद्रशेखर मंत्रिमंडल मे मंत्री भी बने ! उस समय क्रमशः बृहस्पति और शनि की विनषोत्तरी महादशायें थी ! उनका बृहस्पति पांचमेश और शनि नवम भाव मे है ! इस समय स्वामी बुध की महादशा मे आ चुके हैं ! बुध की दशा दिसंबर २००२ से चल रही है ! जून २०१२ से स्वामी राहु की अंतरदशा मे चल रहे हैं ! राहु जिस राशि मे हैं उसका स्वामी शुक्र है जो दूसरे मारक घर मे बैठा है बारहवे घर के स्वामी चंद्रमा के साथ ! यह अच्च्छा योग नही है ! क्योकि महादशा भी दूसरे घर के स्वामी की है ! एक चीज़ जो कही जा सकती है की तीसरा राहु उन्हे हिम्मत दे रहा है तो दुस्साहसी भी बना रहा है ! उनकी कुंडली मे उच्च का मंगल च्चते घर मे बैठ कर उन्हे हिम्मती बना रहा है !
सितंबर २०१३ तक स्वामी शष्ठिहयनी दशा के अनुसार शुक्र की महादशा मे हैं ! सितंबर २०१३ तक डाक्टर स्वामी के सितारे ठीक नही है ! उनके दशांस  कुंडली मे ग्रह ठीक नही है दशा के अनुसार विनषोत्तरी दशा के अनुसार उनकी राहु की अंतरदशा है और यह राहु शनि से दृष्ट है ! उन्हे अपनी सेहत का ध्यान रखना होगा और शत्रुओं से सावधान रहना होगा ! निकट भविष्य मे कोइ बहुत बड़ी उपलब्धि नही दिखती उनके खाते मे !पर वे अपने विरोधियों की नाक मे दम किए रहेंगे इसमे कोइ शक नही है !

ज्योतिष् की 5 महत्वपूर्ण दशायें

4 अन्य महत्वपूर्ण बाते हैं ! ग्रहों का गाणांत या सर्पदेश क्राड में होना या पाप्कर्तरी में होना ! ग्रह कहीं मृत्यूभाग म...