Monday, December 31, 2012

कैसा रहेगा भारत के लिए साल २०१३ - वैदिक ज्योतिष् के आईने मे

२०१३ - कैसा रहेगा भारत के लिए !

भारत -
१४ जनवरी से २७ जून तक स्थिति बहुत ही खराब दिखती है !राहु और शनि का एक ही राशि मे होना किसी भी तरह अच्च्छा नही कहा जा सकता है !यह दोनो क्रूर ग्रह छठे भाव मे जन्मकालीन बृहस्पति के उपर से गुजरेंगे ! नेताओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन होते रहेंगे !
किसी बड़े नेता का चरित्र हनन देश को शर्मिंदा करेगा ! राजनीति मे बहुत बड़े बदलाव होंगे ! कॉंग्रेस की मुश्किले
२७ जून २०१३ तक भारत की कुंडली मे सूर्य मे शनि की विनषोत्तरी दशा चल रही है ! सूर्य सरकार , सत्ता , कैबिनेट , मुख्यमंत्री , प्रधानमंत्री , बड़े बिसनएस घरानों ,बड़े नामी धार्मिक नेताओ आदि का प्रतिनिधित्व करता है ! चूँकि सूर्य शनि और केतु से पीड़ित है और नवांश मे शनि और मंगल से पीड़ित है ! इसलिए सत्ता मे बैठे लोग हठी और अभिमानी हो गये ! जुलाइ २०१२ से सूर्य मे शनि की दशा चल रही है और यह शनि सूर्य के साथ ही भारत की स्वतंत्रता की कुंडली मे तीसरे घर मे बैठा है ! इस लिए जून तक स्थिति और खराब हो जाएगी ! तीसरा घर संचार , प्रेस , मीडिया रेलवे आदि का होता है !
जून से भारत बुध की अंतरदशा मे आजाएगा ! बुध भी सूर्य शनि शुक्र और चंद्र के साथ तीसरे घर मे बैठा है ! बुध बी उन्ही चीज़ो का कारक है जो तीसरे घर का प्रतिनिधित्व करती है ! अर्थात मीडिया संचार इत्यादि ! इतना तय है की मीडिया और संचार से संबंधित कुछ अच्छा और कुछ बहुत बुरा घटने वाला है २०१३ मे ! चूँकि बुध दूसरे घर का स्वामी है है इसलिए अर्थव्यवस्था कुछ खराब होसकती है ! मनोरंजन और सिनेमा से संबंधित लोग आर्थिक अपराध मे फसेंगे ! इस सा नेताओं के अलावा अन्य छेत्रों के जानेमाने लोग आर्थिक अपराध मे फसेंगे और मीडिया मे बड़े व्यापारिक घरानों के घोटालों से संबंधित खबरें सुर्खियाँ बटोरेंगे ! कुछ बड़े बॅंक भी इन्ही मामलों मे चर्चा के केंद्र मे रहेंगे !
एक या काई बड़े नामी लोग सेक्स स्कैंडलों मे फास्टे दिख रहे है ! इन मामलों मे यह साल विचित्र दिख रहा है ! १४ अप्रैल १३ के बाद जब मंगल राहु और शनि को गोचर मे देखेगा तब स्थिति और खराब होगी ! यह एक कुछ दिनों का समय भा. ज. पा के लिए भी ठीक नही है ! और कॉंग्रेस के किसी बड़े नेता के स्वास्थ्य के लिए भी ठीक नही है !

साल के मध्य से अगले साल तक मीडिया , सिनेमा , मनोरंजन जगत और बड़े व्यापारिक घरानो से संबंधित कुछ बुरे समाचार हैं !
कॉंग्रेस -
 अक्तूबर २०१३ तक कॉंग्रेस अगर अपने आप को बचा ले गयी तो आगे समय उतना बुरा नही है ! पर अक्तूबर २०१३ तक बहुत कुछ होने वाला है उसके साथ ! जनवरी २००२ से २०१२ तक कॉंग्रेस जैमिनी की अनुकूल कर्क दशा मे थी ! पर जनवरी २०१२ से वह अशुभ और प्रतिकूल सिंह राशि की चार दशा मे आ चुकी है ! यह दशा कॉंग्रेस के लिए बिल्कुल भी ठीक नही है ! देखिए जैमिनी की सिंह चारदशा मे वक्री और नीच का मंगल किस तरह दसवे घर मे बैठा है ! यह दूसरे और सातवे घर स्वामी भी है ! अर्थात यह कॉंग्रेस के लिए सिर्फ़ बुरा ही नही अशुभ भी है ! क्योकि दशा और अंतरदशा दोनो मारक राशियों की है इसलिए उसके लिए समय बहुत ही खराब है ! 
भ.ज.पा -
 २२ जनवरी तक पार्टी कलह और झगड़ों मे फाँसी रहेगी ! २२ जनवरी से मई तक पार्टी सूर्य मे लाभेश और शष्टेश मंगल की अंतरदशा मे आ जाएगी ! महादशा सूर्य की है जो मृत्यूभाग मे है ! यह मंगल सिंह राशि मे है और वक्री है जो यह दर्शा रहा है की झगड़ा तो होगा पर पार्टी मे अधिनायकत्व दिख रख रहा है ! मंगल राहु और शनि के साथ है और महादशनात सूर्य को देख रहा है अर्थात पार्टी मे माई तक एक बहुत ही बड़ा बदलाव होने वाला है !  
.राहुल गाँधी -
राहुल गाँधी के लिए यह साल बाधाओं का होगा ! क्यों की वे नवंबर २०१३ तक मंगल मे बुध की अंतरदशा मे चल रहे हैं ! बुध बुद्धि और विवेक का कारक होता है ! उनकी समझ पर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा चलती रहेगी ! उनका बुध मंगल और मंगल शनि से घिरा है ! यही उन्हे औसत बुद्धि का व्यक्ति बना रहा है ! उनका शुक्र भी केतु और मंगल से घिरा हुआ है ! अप्रैल २०१४ तक वे केतु के अंतर मे चलेंगे ! केतु बहुत ही पीड़ित है ! उन्हे अपनी छवि का खास ध्यान देना होगा ! साल २०१३ के अंत मे कुछ ऐसा हो सकता है जो उनकी प्रतिष्ता को बहुत धक्का पहुचाए ! 
 नरेंद्र मोदी - अक्तूबर २०१३ तक मोदी केतु की अंतरदशा मे हैं ! लाभ स्थान मे केतु और केतु का राशि स्वामी बुध है ! साथ मे चतुर्थेश शनि और शुक्र भी है ! चौथा और पाँचवाँ तथा तीसरा भाव मंत्री मुख्यमंत्री तथा प्रधानमंत्री के लिए देखा जाता है ! मोदी का पांचमेश चौथे घर मे है ! चतुर्थेश लाभ भाव से पाँचवे घर को देख रहा है ! मोदी की कुंडली मे राजयोग है और उन राजयोगों की दशा भी चल रही है ! इतना है की वे अपनी सुरक्षा पर ज़्यादा ध्यान दें !

ज्योतिष् की 5 महत्वपूर्ण दशायें

4 अन्य महत्वपूर्ण बाते हैं ! ग्रहों का गाणांत या सर्पदेश क्राड में होना या पाप्कर्तरी में होना ! ग्रह कहीं मृत्यूभाग म...